Thursday, May 2, 2019

कपालभाती प्राणायाम करने का तरीका,फायदा और सावधानी

दोस्तों आज हम आपके साथ कपालभाती प्राणायाम करने का सही तरीका और इससे होने वाले Benefits के बारे मे अच्छे Information देने वाले है तो आप इस पोस्ट को ध्यान से पूरा पढ़े.

Friends हमारे भारत के महान ऋषि मुनि ने आज से हजारो साल पहले योग को एक अस्तित्व दिया और ऐसे कई प्रकार कि योग क्रिया का आविष्कार किया जिसके मदद से व्यक्ति 100 साल तक संपूर्ण स्वस्थ रहे.

अगर बात करे Kapalbhati Pranayam कि तो योग मे इससे और कुछ बेहतर नहीं है यह सबसे उच्च विध्या है,हम यह सब भूल चुके थे परंतु Swami Ramdev फिर योग का महिमा पुरे India और All World मे फेलाया और योग को एक नए दिशा प्रदान कि है.

प्राण का मतलब होता है श्वास और आयाम का मतलब होता है विस्तार तो यह दो शब्द से बना है प्राणायाम जिसका मतलब होता है श्वास का विस्तार करना एक ऐसी प्रक्रिया द्वारा जो बहुत आसान हो.

दोस्तों हमारे शरीर मे सात चक्र होते है और कपालभाती प्राणायाम से मूलाधार चक्र से लेकर सहस्त्रार चक्र तक सभी सिद्ध हो जाते है जिसको हम कुंडलिनी जागरण कहते है.

कपालभाती प्राणायाम से 99% Disease से मुक्ति मिलती है,जिस रोग कि दवा आधुनिक Medical विज्ञान मे नहीं है वह रोग कि दवा कपालभाती प्राणायाम है,दोस्तों बाबा रामदेव ने इसका प्रयोग करके Last Stage Cancer को ठीक किया है.

Kapalbhati Pranayam के अद्भत Benefits है परंतु अगर इसको सही तरीके से किया जाए तो और इसमें कुछ खास प्रकार कि सावधानी भी रखनी होती है.

Friends सबसे पहले हम जानते है इसको करने का सही तरीका क्या है.

कपालभाती प्राणायाम कैसे करे 

प्राणायम करना बहुत आसन काम होता है 5 साल के छोटे बच्चे से लेकर 90 साल के बुजुर्ग तक कोई भी इस क्रिया को कर सकता है.

सबसे पहले सुबह खाली पेट आप एक शांत जगह पर एक स्वच्छ रजाई या फिर चादर को बिछा दीजिए फिर इस पर ज्ञान मुद्रा मे बेठ जाए फिर अपने श्वास को तेज़ी से बहार निकाले और सामान्य गति से Inhale करना है.

benefits of kapalbhati

दोस्तों आपको यह क्रिया बार बार करनी है तेज़ी से श्वास बहार छोड़ना है और सामान्य गति से श्वास अंदर लेना है,यह प्राणायाम आप 5 मिनट से 30 मिनट तक कर सकते है,खास कर असाध्य रोगों मे यह 30 Minute तक करना चाहिए.

शुरुआत के दिनों मे आपको थोड़ी समस्या जरुर होगी पर एक बार यह आपकी आदत बन गई फिर अगर आप एक दिन भी यह अभ्यास नहीं करेगे तो कुछ Life मे कमी है ऐसा महसूस होगा.

अब हम कपालभाती प्राणायाम के Benefits मतलब फायदे के बारे मे विस्तार से जानेगे.

कपालभाती प्राणायाम के फायदे 


1.दोस्तों कपालभाती प्राणायाम से किसी भी प्रकार का कैंसर अगर Last Stage है फिर भी शत प्रतिशत ठीक होता है क्यु कि जब हम तेज़ी से श्वास को बहार छोड़ते है और सामान्य गति से अंदर लेते है तब ऑक्सीजन अधिक प्रमाण मे हमारी बॉडी को मिलेगा और ऑक्सीजन के संपर्क मे आने से Cancer Cell निष्क्रिय हो जाएगे.

2.इस प्राणायाम को नियमित करने से Kidney Stone मतलब गुर्दे कि पथरी अच्छी होती है और मूत्र मार्ग के सभी रोगों से मुक्ति मिलती है.

3.अगर Body मे कही पर किसी प्रकार कि गांठ है तो वह 3 महीने के अंदर खत्म हो जाएगी.

4.Platelets को बढ़ता है और WBC को नियंत्रित रखता है.

5.Body मे खून कि कमी को पूरा करता है और शरीर को उर्जा वान बनता है.

6.अगर आप यौन रोगों से मुक्ति पाना चाहते हो तो नियमित Kapalbhati करे यह बहुत लाभ दायक है.

7.Diabetes को तो यह रामबाण इलाज है क्यु कि कपालभाती को करने से पैंक्रियाज के जो सेल निष्क्रिय हो गए है वह पुनः सक्रीय हो जाते है.

8.पाचन तंत्र को बहुत स्ट्रोंग बनता है और Constipation मतलब कब्ज से शत प्रतिशत छुटकारा मिलता है.

9.इसको करने से Immune System मतलब कि रोग प्रतिरक्षा प्रणाली मज़बूत होती है.

10.Friends आपको 99% रोगों से मुक्ति मिलेगी और कभी किसी प्रकार का रोग नहीं होगा.  

कपालभाती करते समय रखे यह सावधानी 


कपालभाती प्राणायाम सुबह सुबह खाली पेट ही करना चाहिए क्यु कि यह समय सबसे अच्छा होता है किसी भी योग साधना करने के लिए अथवा आप खाना खाने के तीन घंटे बाद भी कर सकते है.

अगर आपने पेट का ऑपरेशन कराया है तो 3 महीने तक यह Pranayam नहीं करना चाहिए दोस्तों क्यु कि यह पेट को अंदर ले जाता है जब हम श्वास तेज़ी से बहार छोड़ते है.

अगर आप Blood Pressure के रोगी है तो यह क्रिया बहुत धीमे धीमे करनी चाहिए बस इतनी से सावधानी खास रखे और महिला मासिक धर्म के समय यह क्रिया ना करे.

Click To Watch Video कपालभाती का विडियो देखे 

Final Words

I Hope Friends के आपको मेरी यह कोशिश अच्छी लगी हो,यह पोस्ट अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे क्यु कि ज्ञान शेयर करने से बढ़ता है.                                  

0 comments: