Friday, May 3, 2019

अनुलोम विलोम प्राणायाम करने कि विधि,फायदे और सावधानी

अनुलोम विलोम प्राणायम एक बहुत अद्भुत बेनेफिट्स देने वाली योग कि क्रिया है,तो आज हम आपके साथ यह क्रिया कैसे करनी है वह बताने वाले है और इसमें क्या क्या Caution मतलब सावधानी कि जरुरत है वह भी बताएगे तो आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़े.

anulom vilom benefits

दोस्तों हमारे मानव शरीर मे 72,000 नाड़ियां होती है और यह सभी नाड़ियां मुख्य तीन नाड़ी से मिलती है जिसको हम इंडा,पिंगला और सुष्म्ना ना से जानते है,Left Side को इडा और Right Side को पिंगला नाड़ी के नाम से जाना जाता है.


शरीर कि सभी 72 हज़ार नाड़ियां जिनमे से 36 हज़ार इडा से और 36 हज़ार पिंगला से जुडी होती है,तो यह अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से शुद्ध हो जाती है,तो जब नाड़ियां शुद्ध हो गई तो अब किसी भी प्रकार को रोग आपको नहीं हो सकता है और Concentration Power बहुत अधिक बढ़ता है.

अनुलोम विलोम प्राणायाम कैसे करे 

सबसे पहले आप सुबह सुबह खाली पेट एक स्वस्छ रजाई को बिछा के उसके ऊपर आराम से सुखासन मे पालथी मार कर बैठ जाए अब आगे Image मे दिखाए अनुसार क्रिया करे.

anulom vilom benefits

अब आप Left hand कि पहली दो उंगली को मोड़ दे या फिर आखरी दो उंगली को मोड़ दे फिर Right Side नासिका को बंध करे और Left Side कि नासिका से श्वास अंदर ले फिर अपने अंगूठा से Left Side कि नासिका को बंध करे और Right Side से श्वास को बहार छोड़ दे यह क्रिया अब आपको बिलकुल विरुद्ध दिशा मे करनी है.

Left से श्वास लिया Right मे छोड़ा फिर Right से श्वास लिया अब Left मे छोड़ा यह क्रिया को अनुलोम विलोम प्राणायाम से जाना जाता है.

दोस्तों खास बात का यह ध्यान रखे श्वास को बिलकुल Slowly मतलब धीरे धीरे ले क्यु कि यह क्रिया बहुत धीमे धीमे करनी होती है अगर आप यह क्रिया तेज़ी से करेगे तो Benefits कि जगह पर Loss होगी.



जब हम अनुलोम विलोम प्राणायाम करते है तब हमारे शरीर कि सभी 72,000 नाड़ियां शुद्ध हो जाती है और यह शरीर एक शांति का अनुभव करता है,मन कि सारी वासना खत्म हो जाती है.

अनुलोम विलोम प्राणायाम के फायदे 


Anulom Vilom Benefits? अगर बात करे इसके फायदे कि तो इसकी तारीफ़ के लिए मेरे पास शब्द नहीं है क्यु कि अगर आप इसको Apply करते हो तभी आपको इसके फायदे होगे.

1.Friends अनुलोम विलोम प्राणायाम नेत्र रोगों के लिए बहुत ही अच्छा है जैसे कि Glaucoma मतलब के मोतियाबिंद को तो यह शत प्रतिशत ठीक करता है और आँखों कि रौशनी तेज़ करता है.

2.Anulom Vilom करने से मन शांत होता है और Concentration Power मतलब एकाग्रता कि शक्ति विकसित होती है.

3.शरीर कि सभी नाड़ी को शुद्ध करता है और Immunity Power को बढ़ाने मे बहुत मदद करता है.

4.Stress और वासना मुक्ति का अगर कोई उत्तम साधन है तो वह अनुलोम विलोम प्राणायाम ही है.

5.Cancer जैसे असाध्य रोगों मे यह कपालभाती प्राणायाम के बाद 30 मिनट तक अनुलोम विलोम किया जाता है.



6.उच्च रक्तचाप मतलब High Blood Pressure और Heart कि समस्या के लिए यह रामबाण इलाज है,आपको Bp कि समस्या 100% Cure हो जाएगी.

7.अनुलोम विलोम प्राणायाम करने से दिमाग तेज़ होता है और स्मरण शक्ति बढती है,अगर आप अपने बच्चे को हर रोज़ यह प्राणायाम कराएगे तो जरुर IQ Level बढेगा.

8.अगर आप भगवान से मिलना चाहते है तो यह क्रिया करे क्यु कि इससे आत्मा का परमात्मा से मिलन होता है.


सावधानी 


यह Anulom Vilom प्राणायाम आप सुबह सुबह खाली पेट करे क्यु कि भोजन लेने के बाद यह क्रिया नहीं करनी चाहिए,खाना खाने के 3 घंटे बाद जरुर कर सकते है,इसमें आप श्वास को बहुत धीरे धीरे से ले क्यु कि यह तेज़ी से नहीं किया जाता है.                         

0 comments: